डॉ. मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री पद मिलने के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्र में आ सकते हैं

Author: Pratap Chaudhari

Post Date :

Rate this post

डॉ. मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री पद मिलने के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्र में आ सकते हैं
इस लेख में हम डॉ. मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री पद मिलने के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्र में आ सकते हैं के बारे में बात करने जा रहे हैं । अगर आपको कोई अन्य समस्या है तो नीचे कमेंट करें।


मध्य प्रदेश के नए सीएम डॉ मोहन यादव ने अपनी कमान संभाल ली है। और पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी को अब केंद्र में कोई मंत्री पद मिलने की आशंका जताई जा रही है। बता दे की पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी राजनीति में बहुत लंबे समय से हैं। उनका अनुभव राजनीति में बहुत ही ज्यादा है। इन सभी को ध्यान में रखते हुए अनुमानित तौर पर कह सकते हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी को केंद्र में कोई मंत्री पद मिल सकता है।

भारतीय जनता पार्टी का पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान जी पर विश्वास

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी का राजनीतिक समय बहुत ही लंबा रहा है। अनुमानित तौर पर बता सकते हैं कि 18 वर्षों तक शिवराज सिंह चौहान जी ने राजनीति में काम किया है। अपना अच्छा अनुभव होने के कारण उनको केंद्र में कोई मंत्री पद मिल सकता है। भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव जीतने के बाद शिवराज सिंह चौहान जी की कुर्सी पर डॉ मोहन यादव को बिठाकर और शिवराज सिंह चौहान जी को सरकार केंद्रीय राजनीति में लाना चाहती है।

अब पार्टी में में युवाओं को ज्यादा मौका दिया जाएगा

अब राजनीति पार्टी में युवाओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा रहा है। और अब राजनीति में युवाओं को लेकर चौंकाने वाले नाम सामने आने वाले हैं। बता दे मध्य प्रदेश की विधानसभा का पहला सत्र दिसंबर में शुरू हो रहा है यह पहला सत्र चार दिवसीय होने वाला है इसकी तारीख 18 दिसंबर से लेकर 21 दिसंबर तक होगी। इस सत्र में विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव भी किया जाएगा।

विधानसभा का पहला सत्र 4 दिन का होगा

मध्य प्रदेश विधानसभा का पहला सत्र 18 दिसंबर से 21 दिसंबर तक चलेगा या पहला सत्र चार दिवसीय होने वाला है। इसमें सैकड़ो विधायकों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। मध्य प्रदेश राज्य की 230 विधानसभा सीटों के लिए इस बार चुनाव हुए थे।

पूर्व मंत्रियों को मिलेगा मौका

कैबिनेट में युवा चेहरों के साथ ही कुछ पुराने चेहरों को मौका देने की बात कही जा रही है। इसी तर्ज पर पिछले सरकार के मंत्रियों को भी मौका मिलेगा। पूर्व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की विधानसभा अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी तय हो गई है। हालांकि, कैलाश विजयवर्गीय और प्रहलाद पटेल को लेकर अब तक स्थिति स्पष्ट नहीं है। इनके अलावा सांसद से विधायक बने राकेश सिंह, रीति पाठक और राव उदयप्रताप सिंह को लेकर केंद्रीय नेतृत्व ही निर्णय लेगा कि ये वापस केंद्र में जाएंगे या फिर मध्य प्रदेश में मोहन यादव कैबिनेट में शामिल होंगे। पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को केंद्र में मौका मिलेगा।

यह भी पढ़ें – क्या लाडली बहना योजना की राशि में बढ़ोतरी होगी? या फिर विधानसभा चुनाव के बाद योजना बंद हो जायेगी

पूर्व मंत्रियों को मिलेगा मौका

कैबिनेट में युवा चेहरों के साथ ही कुछ पुराने चेहरों को मौका देने की बात कही जा रही है। दरअसल, दो डिप्टी सीएम चयन किए गए। जिसमें जातिगत समीकरण के साथ ही उनके पिछले कार्यकाल के परफार्मेंस को ध्यान में रखते हुए ही किया गया। इसी तर्ज पर पिछले सरकार के मंत्रियों को भी मौका मिलेगा। इसमें जातिगत समीकरण के साथ ही क्षेत्रीय समीकरण को साधा जाएगा। गुरुवार को कई पूर्व मंत्री और विधायकों ने सीएम से मंत्रालय में मुलाकात की।

अब दिग्गजों का क्या होगा?

पूर्व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की विधानसभा अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदारी तय हो गई है। हालांकि, कैलाश विजयवर्गीय और प्रहलाद पटेल को लेकर अब तक स्थिति स्पष्ट नहीं है। इनके अलावा सांसद से विधायक बने राकेश सिंह, रीति पाठक और राव उदयप्रताप सिंह को लेकर भी कयास लगाए जा रहे हैं। इन सब पर केंद्रीय नेतृत्व ही निर्णय लेगा कि ये वापस केंद्र में जाएंगे या फिर मध्य प्रदेश में मोहन यादव कैबिनेट में शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें – मध्य प्रदेश सीएम शिवराज सिंह चौहान जी के कार्यकाल को लेकर महिलाएं अत्यधिक प्रभावित

वहीं, चर्चा है कि पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को आलाकमान केंद्र में कोई बड़ी भूमिका दे सकता है। शिवराज की प्रदेश की महिलाओं में लोकप्रियता को देखते हुए शीर्ष नेतृत्व कोई जोखिम नहीं लेना चाहेगा। और राजनितिक विशेषज्ञों का यही कहना है कि शिवराज सिंह चौहान को केंद्र में जगह दी जायगी और उनके अनुभव का पार्टी पूर्ण उपयोग करेगी।


नोट :- यह लेख केवल जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है, अधिक जानकारी के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं…

निष्कर्ष
इस लेख के माध्यम से हमने आपको डॉ. मोहन यादव को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री पद मिलने के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्र में आ सकते हैं से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है । यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करें, हमसे संपर्क करें हम आवश्यकतानुसार आपकी समस्या का समाधान करेंगे।

Tags

About Author

OK-Bharat.Com

हिंदी न्यूज, समाचार, रोजगार अपडेट, सरकारी नोकरी, जॉब कार्ड, एडमिट कार्ड, परीक्षा परिणाम सभी अब एक जगह पे।

Join Us

Recommended Posts

मध्य प्रदेश सरकार ने 15000 पदों पर पटवारियों की भर्ती के दिये आदेश

मध्य प्रदेश सरकार के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ा, समय से पहले वेतन भी मिलेगा

पी.एम मुद्रा लोन का स्टेट्स अब घर बैठे  चेक करें

PM श्री केंद्रीय विद्यालयों में निकली शिक्षकों के लिए भर्ती, इंटरव्यू से होगी सीधी भर्ती

25 फरवरी को अमित शाह होंगे मध्य प्रदेश दौरे पर, प्रबुद्धजन सम्मेलन को करेंगे संबोधित 

Bihar Board 11th Admission 2024 Date

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की महिलाओं के लिए खुशखबरी, एक साथ आएगी इन 2 योजनाओं की राशि

Important Pages

About Us

Contact Us

DMCA

Privacy Policy

This image has an empty alt attribute; its file name is OK-Bharat-W-Logo.png

हिंदी न्यूज, समाचार, रोजगार अपडेट, सरकारी नोकरी, जॉब कार्ड, एडमिट कार्ड, परीक्षा परिणाम सभी अब एक जगह पे।

Top Rated Posts

मध्य प्रदेश सरकार ने 15000 पदों पर पटवारियों की भर्ती के दिये आदेश

मध्य प्रदेश सरकार के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ा, समय से पहले वेतन भी मिलेगा

पी.एम मुद्रा लोन का स्टेट्स अब घर बैठे  चेक करें

PM श्री केंद्रीय विद्यालयों में निकली शिक्षकों के लिए भर्ती, इंटरव्यू से होगी सीधी भर्ती

Recommended Posts

मध्य प्रदेश सरकार ने 15000 पदों पर पटवारियों की भर्ती के दिये आदेश

मध्य प्रदेश सरकार के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ा, समय से पहले वेतन भी मिलेगा

पी.एम मुद्रा लोन का स्टेट्स अब घर बैठे  चेक करें

PM श्री केंद्रीय विद्यालयों में निकली शिक्षकों के लिए भर्ती, इंटरव्यू से होगी सीधी भर्ती